सोमवार, 19 दिसंबर 2011

'यादें'

'यादें' - खट्टी, मीठी,

वो गुज़रे लम्हों की,

अपनों की -

व रिश्तों की,

कम आती है अब मुझे,

ठीक उसी तरह----

चहचहाहट - चिड़ियों की,

घर की छोटी बगिया से,

कम आती है,

अब जिस तरह.

11 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ उम्दा रचना लिखा है आपने! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर भावपूर्ण खुबशुरत अभिव्यक्ति बधाई,....

    मेरे पोस्ट के लिए "काव्यान्जलि" मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर अहसास बेहतरीन रचना,......
    नए साल की शुभकामनाए .......

    मेरे पोस्ट के लिए --"काव्यान्जलि"--"बेटी और पेड़"-- मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय जी . आपके शब्दों हेतु आभार. स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं