शनिवार, 31 दिसंबर 2011

"एकाग्रता"

'ईश्वर' ने 'पृथ्वी' के समस्त जीवों में मनुष्य को श्रेष्ठतम मस्तिष्क / बुद्धि प्रदान की. इसी के साथ ही मनुष्य में 'सर्वोच्चता ' हांसिल करने की ‘तृष्णा’ भी जाग्रत हो गई. प्राचीन काल में ‘सर्वोच्चता ' को प्राप्त करने के लिए अनेकानेक प्रयोग हुए और सबसे कठिन मार्ग, 'तपष्या' (एकाग्रता) का मार्ग, उपयुक्त बताया गया. हमारे धर्म ग्रंथों में अनेक तथ्य संकलित हैं जो इसकी प्रमाणिकता सिद्ध करते हैं.

ऋषि मुनियों ने एकाग्रता / तप के फलस्वरूप ‘दिव्य ज्ञान’ प्राप्त कर उसका सदुपयोग 'लोककल्याण' हेतु किया एवं दुर्पयोग होने पर बिनाशकारी परिणाम होने का सन्देश दिया. "दिव्य ज्ञान / शक्तियों" के उपयोग, दुरपयोग, सुप्रभाव, कुप्रभाव की अनेक कहानियां प्रचलित हैं.

यह सर्वथा शाश्वत सत्य है- जीवन का सबसे कठिन 'कर्म' है - "तपस्या ".

वर्तमान काल में हम लोग प्रयोगात्मक (वैज्ञानिक) खोज के सहज मार्ग पर शोधरत हैं. 'एकाग्रता' इस काल में भी उतनी ही कारगर है. बिना 'एकाग्रता' के नित नए कीर्तिमान असंभव हैं. वर्तमान काल में 'ज्ञान' की जगह 'धन' ने ले ली है. तब 'ज्ञान' के सापेक्ष 'धन' की कोई महत्ता न थी, अब 'धन' के आगे पीछे बड़े बड़े ज्ञानी - ध्यानी (स्वयंभू) घूमते दीखते हैं. लगता है 'ज्ञान' बिलुप्त होता जा रहा है.

आज 'येन केन प्रकारेण' स्वार्थपरक ‘धनोपार्जन’ ही जीवन का उद्देश्य सा बन गया है. धर्म शास्त्रों में 'धन' को देवी स्वरूप - 'श्री लक्ष्मी' माना गया है, जिसका मान, सम्मान / प्रबंधन यथोचित हो तो जन कल्याणकारी फल प्राप्त होते हैं और मान, सम्मान / प्रबंधन यथोचित न हो तो बिनाशकारी फल प्राप्त होते हैं. कभी कभी लगता है, हम इसी दिशा में बढ रहे हैं.

'धन' का आय / ब्यय मार्ग का प्रबंधन कैसा है - आर्थिक मोर्चे पर, हर तरफ असमंजस की स्थिति है. 'बर्ष २०११' में पूरी दुनियां इसी बिषय पर केन्द्रित /आंदोलित रही. हम भी इससे अछूते न रह पाए. उचित एवं उत्तम प्रबंधन में 'एकाग्रता' की अवश्यमेव आवश्यकता है.

आइए सब लोग मिलकर लक्ष्य बनाएं कि हम "एकाग्रता", 'धन' से अधिक, 'ज्ञान' को दे कर, अपने अपने क्षेत्र में, 'उचित एवं उत्तम प्रबंधन' को भरपूर महत्ता दें और आने वाले समय का सुखद अनुभव प्राप्त करें.

"सभी को 'नव वर्ष २०१२', की हार्दिक शुभ कामनाएँ "

22 टिप्‍पणियां:

  1. नव वर्ष आपके और आपके परिवार के लिए अनेक सुखद अनुभव तथा समाचार लेकर आये, ऐसी कामना है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. badhai joshi ji .....prernadayak vichar apke likh se mile ... abhar .Nav Varsh pr hardik badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति|

    आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुप्रभात जोशी जी :
    आपको स: परिवार पाश्चात्य नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं प्रेषित करता हूँ और ब्लॉग जगत में
    आपका गर्मजोशी से स्वागत करता हूँ , कृपया स्नेह बनाये रखें ......
    उपरोक्त प्रस्तुति हेतु आभार......................

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुप्रभात जोशी जी :
    आपको स: परिवार पाश्चात्य नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं प्रेषित करता हूँ और ब्लॉग जगत में
    आपका गर्मजोशी से स्वागत करता हूँ , कृपया स्नेह बनाये रखें ......
    उपरोक्त प्रस्तुति हेतु आभार......................

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभ कामनाओं सहित हार्दिक स्वागत, भाकुनी जी. . . . .आपके शब्दों हेतु -आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर प्रस्तुति।
    नव वर्ष की मंगलकामनाएं।
    http://meenakshiswami.blogspot.com/2011/12/blog-post_31.html

    उत्तर देंहटाएं
  8. सम्माननीया, डॉ.मीनाक्षी स्वामी जी ,
    सु- स्वागतम एवं सादर आभार. स्नेह बनाए रखिएगा.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आइए सब लोग मिलकर लक्ष्य बनाएं कि हम "एकाग्रता", 'धन' से अधिक, 'ज्ञान' को दे कर, अपने अपने क्षेत्र में, 'उचित एवं उत्तम प्रबंधन' को भरपूर महत्ता दें और आने वाले समय का सुखद अनुभव प्राप्त करें.
    ..bahut sundar nek shubh sandesh prastuti ..
    Aapko spariwar navvarsh kee haardik shubhkamnayen!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सम्माननीया,कविता जी, स्वागत एवं आभार. नव बर्ष में आपको नया मान सम्मान एवं नई खुशियाँ प्राप्त हों. स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को नये साल की ढेर सारी शुभकामनायें !
    बहुत बढ़िया लगा! सुन्दर आलेख !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सटीक तरीके से विचार किया है आपने ....निश्चित रूप से आपका यह लेख आँखें खोलने वाला है ....आज के सन्दर्भों को प्रासंगिक तरीके से पेश किया है आपने ...आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. सु स्वागतम - केवल जी, धन्यवाद, स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,बढ़िया प्रस्तुति,....
    welcome to new post--जिन्दगीं--

    उत्तर देंहटाएं
  15. उर्मी जी , धीरेन्द्र जी, आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  16. विलंब से आया... क्षमा चाहता हूं..... अब आपकी कोई पोस्‍ट नहीं छूटेगी, फालो कर लिया आपका ब्‍लाग....

    नववर्ष की शुभकामनाएं................

    उत्तर देंहटाएं
  17. आदरणीय, नूतन जी , अतुलजी, आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुंदर अभिव्यक्ति बहुत बढ़िया लेख ,....
    welcom to new post --"काव्यान्जलि"--

    उत्तर देंहटाएं