शनिवार, 18 फ़रवरी 2012

'जनक'


बचपन में, 'पिताजी' की अँगुली  थामे, टहलने पर  एहसास होता था, मानो सारी दुनियां मेरे नीचे है, मेरे पिताजी ही दुनियाँ के सर्व श्रेष्ठ पुरुष हैं. प्राइमरी स्कूल से मिडिल स्कूल, फिर हाईस्कूल , सुहाने दिन बचपन के, गर्व से जाने कब गुजर गए. हाईस्कूल से कालेज जाते ही परिस्थियाँ धीरे धीरे बदलने लगी , मेरी आवश्यकताएं बढ़ने लगी. आकांक्षानुरूप, पूर्ति का आभाव होने लगा तो बिपरीत भावों का उद्भव प्रारंभ होने लगा. चूँकि 'पिताजी' सरकारी मुलाजिम नहीं थे, खेती बाड़ी जंगलात कि छोटी मोटी ठेकेदारी से  गुजर बसर होती थी, इसलिए मुझे कुछ कमी सी महसूस होने लगी. आभास होने लगा कि मेरा आजतक का आकलन गलत था, मेरे 'पिताजी' के अपेक्षा  मेरे कुछ  दोस्तों के 'पिताजी' श्रेष्ठ हैं, अधिक विद्वान हैंशिक्षा पूर्ण होने परगांव से रोजगार तलाशने शहर आने पर, इस  स्थिति के साथ कुछ दयनीय भाव भी जुड़ने लगे - "हम तो दुनियाँ में बहुत पीछे रह गए, पिताजी भी अन्य लोगों कि भांति गांव छोड़ कर वक्त पर  शहर आते तो नौकरी पा जाते"आदि आदि.  
मै नौकरी करने लगाशनै:शनै:  'पिताजी' को इग्नोर करने लगा. घर परिवार की  जमेवारियां - भाई बहनों, अपनी शादी, भरपूर निभाई पर 'पिताजी' की राय  को कम महत्व दिया. 'पिताजी' पग पग पर सलाह देते जाते थे , मुझे लगता था - रूढीवादी, पुराने ख्यालों वाली बातें करते हैं . बात बात में उनकी बातें काटना, झिडकी देना,  मेरी आदतों में सुमार हो गया था. 'पिताजी' बिना किसी शिकन के  धैर्य से अपनी बात फिर भी कह ही देते  थे. अनसुनी करने पर , खीज कर कहते थे -" अरे सुन तो लो, आज नहीं तो कल याद करोगे". 

 समय अपनी रफ़्तार से चलता रहा. मैं तीन बच्चों का 'बाप'  बन गया. 'माँ पिताजी' का  गाँव से  शहर आवागमन चलता रहता . मेरे कई  प्लान्स को भरपूर असहमति दे जाते. मैं भाव देता.

'पिताजी' अब बृद्ध हो चले थे. एकबार उन्होंने बड़े  शांत भाव से लगभग विनय के अंदाज में राय दी - 'बेटा  मेरा  शरीर क्षीर्ण होते जा रहा है, जाने कब बुलावा जाय, मेरी इच्छा है की कम से कम एक 'पौत्र' का तो "उपनयन संस्कार" देख जाता'. इस बार मैं विरोध नहीं कर पाया, उन्हीं के अनुसार 'ज्येष्ठ पुत्र' का "उपनयन संस्कार" कराया. साल भर में 'पिताजी' का स्वर्गवास  हो गया .

आज मेरे बच्चे बड़े हो गए हैं. पग पग पर मुझे 'पिताजी' की 'सलाह मशविरे' की आवश्कता महसूस हो रही है, पर अब 'पिताजी' नहीं हैं. मैं व्याकुल होता हूँ, व्यथित होता हूँतरसता हूँ, 'पिताजी' के लिए, पर वो अब नहीं हैं.
कठिन से कठिन परिस्थितियों में, मेरे असहयोग के वावजूद,  वो कैसे अलौकिक धैर्य के साथ, समस्याओं का समाधान कर लेते थे, अनेक कोशिशों के बाद भी मैं अपने आप को असमर्थ पाता हूँ.  सच है – “अक्ल और उम्र में कभी भेंट नहीं होती.”  


40 टिप्‍पणियां:

  1. अपने माता पिता की बातें मानना चाहिए,...बेहतरीन प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. माता पिता का सम्मान साक्षात् परम्ब्र्मह का सम्मान है ....उनकी इच्छाओं को आप नहीं ताल सके यह आपकी महानता अन्ता पितृ ऋण आपका पीछा नहीं छोड़ता | बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति के लीये सादर आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. त्रिपाठी जी,सही कहा आपने. वेवाक टिप्पणी हेतु आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. उनकी कमी तो जीवन भर महसूस होगी..... सच, हम समय रहते समझें जो ज्यादा अच्छा ....पर अक्सर ऐसा हो नहीं पाता

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. aapke blog par pahli baar ... bahut achha lagaa... aapki kalam yuva varg ko ek nai disha de sakti hai /
      mere bhi blog par aaye//

      हटाएं
  6. स्वागतम बी. पाण्डे जी, आपके स्गाब्दों हेतु आभार. स्नेह बनाए रखें .

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी पिता श्री को दी गयी ये श्रद्धांजलि प्रेरणास्पद है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय, पाण्डे जी.
    इस 'मर्म' में आपके शब्दों हेतु - आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. अक्खतर साहब, स्वागातम व धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक मार्मिक श्रद्धांजलि ... बेहतरीन प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. माननीय तिवारीजी, आपकी टिप्पणी का वज़न 'विशेष' होता है. स्नेह बनाये रखें.
    अपने अमूल्य समय से कुछ क्षण प्रदान करने हेतु आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  12. पिताजी कि याद में बहूत हि मार्मिक
    और बहूत हि बेहतरीन प्रस्तुती है .....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बचपन में, 'पिताजी' की अँगुली थामे, टहलने पर एहसास होता था, मानो सारी दुनियां मेरे नीचे है, मेरे पिताजी ही दुनियाँ के सर्व श्रेष्ठ पुरुष हैं.।

    आपकी प्रथम पक्ति ही आपकी संबेदनशीलता को प्रदर्शित करती है । यह प्रस्तुति मन को छू गयी। धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. रीना जी,
    प्रेम जी,
    आपके शब्दों हेतु आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  15. जोशी जी आपके इस लेख से उन सभी लोगों को एक प्रेरणा जरूर मिलेगी जो अपने माँ बाप को जाने - अनजाने में दुख पहुँचाते हैं व उनकी परिस्थितियों और जिन्दगी के अनुभवों को नजरअंदाज करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. संवेदनशील उत्कृष्ट रचना

    उत्तर देंहटाएं
  17. गजेन्द्र जी, ठीक समझे आप. यही आशय भी था. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बड़ों का कहे का और आंवले के खाए का बाद में पता चलता है।
    बहुत सुन्दर प्रेरणादायक प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  19. " अरे सुन तो लो, आज नहीं तो कल याद करोगे"...........
    लेकिन बाल मन में तब इतनी समझ कहाँ थी.....चलो देर आये दुरुस्त आये,,,,
    आभार उपरोक्त सुंदर पोस्ट हेतु........

    उत्तर देंहटाएं
  20. आदरणीय महोदय
    ''मेरी इच्छा है की कम से कम एक 'पौत्र' का तो "उपनयन संस्कार" देख जाता'. इस बार मैं विरोध नहीं कर पाया, उन्हीं के अनुसार 'ज्येष्ठ पुत्र' का "उपनयन संस्कार" कराया.''
    आप भाग्यशाली हें कि पिता की इच्छा पूर्ण कर सके आपकी पोस्ट पढकर पिता से जुडी अनेक यादें ताजा हो गयीं

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके विश्लेषण हेतु सादर आभार.

      हटाएं
  21. शुभकामनायें कि बच्चे कुछ इस घटना से सीखें ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. pitagee unhe kahte hain jo baccho ka gam pikar unhe khushiyaan pradan krte hain.bahut acchi prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  23. डॉ निशा जी, सादर आभार, स्नेह बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  24. अच्छा संदेश देती हुई, हृदय में अंकित होने वाली रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  25. 5बर्षो के बाद आपकी पोस्ट दुबारा पढ़ने को मिली अच्छी लगी । आपने झरोखे को गतिमान रखना चाहिए ।

    उत्तर देंहटाएं